उत्तराखंड में भारी बारिश से तबाही, लोग दहशत में

26 जून

देहरादून। उत्तराखंड में मानसून से पहले की भारी बारिश से इतनी तबाही हुई कि अभी तक सड़क मार्ग बाधित हैं और कई इलाकों में हुए नुकसान से लोगों में दहशत का माहौल है। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भी इसी बारिश के कारण अपनी केदारनाथ यात्रा रास्ते में ही स्थगित करके लौटने को विवश होना पड़ा था। राज्य में मानसून पूर्व की पहली बारिश पिछले सप्ताह के शुरुआत में दो-तीन दिन तक हुई जिससे विभिन्न इलाकों में भूस्खलन के कारण कई सड़क मार्ग और पुल ध्वस्त हो गए।

इस बारिश के कारण चमोली जिले के घाट क्षेत्र में ही 18 सड़क मार्गों के बाधित होने की खबर है। नदी नालों में भारी बारिश के कारण उफान आ गया और कई गांवों और खेतों को जोड़ने वाले अनेक पुल इनकी भेंट चढ़ गए। केदारनाथ क्षेत्र में जबरदस्त बारिश हुई है जिसके कारण सोनप्रयाग में हेलीपैड ध्वस्त हो गया और केदारनाथ जाने वाला पैदल मार्ग अवरुद्ध हो गया।

राष्ट्रपति को केदारनाथ की यात्रा करनी थी और इसके लिए वह देहरादून से रुद्रप्रयाग जिले के गोचर भी पहुंच गए थे, लेकिन मौसम का मिजाज खराब रहने और क्षेत्र में हुई भारी बारिश के कारण उन्हें भगवान केदारनाथ के दर्शन किए बिना ही वापस लौटना पड़ा। गोचर में उन्होंने दो घंटे से ज्यादा समय तक मौसम के ठीक होने का इंतजार भी किया, लेकिन मौसम में सुधार नहीं हुआ। अब तक पूर्व राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने ही राष्ट्रपति के रूप में भगवान केदारनाथ के दर्शन किए हैं।

Total votes: 21