चीन ने दलाई लामा को कहा-भिक्षु के वेश में भेड़िया, लेडी गागा पर लगाया बैन

28 जून

बीजिंग। चीन ने दलाई लामा की लेडी गागा से मुलाकात पर सख्त एतराज जताया है। चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन हॉन्ग ली ने कहा कि दलाई लामा के इस दौरे के मकसद और दूसरे देशों में उनकी गतिविधियों से यह पता चलता है कि वो तिब्बत की आजादी के अपने प्रपोजल को प्रमोट कर रहे हैं। इस मुलाकात पर बीजिंग ने गुस्से भरी प्रतिक्रिया देते हुए दलाई लामा को ‘भिक्षु के वेश में एक भेडिय़ा’ करार दिया।

गागा ने दलाई लामा से पूछे 30 सवाल

दलाई लामा के ऑफिस की वेबसाइट पर जारी रिपोर्ट के अनुसार, लेडी गागा ने उनका इंटरव्यू लिया, जिसमें उसने दलाई लामा से 30 सवाल पूछे। बाद में गागा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर इस स्पेशल मीटिंग की फोटो शेयर करते हुए दलाई लामा को थैंक्स भी कहा। इस पर गुस्साए चीन ने इंटरनेशनल कम्युनिटी को वॉर्निंग दी है कि वह दलाई लामा के कुटिल मकसदों को लेकर सतर्क रहे। दलाई लामा ने दो हफ्ते पहले प्रेसिडेंट बराक ओबामा से भी मुलाकात की थी। इस दौरान दलाई लामा ने चीन के रवैये की आलोचना की थी।

लेडी गागा को किया बैन

पॉप सनसनी लेडी गागा के दलाई लामा से मुलाकात करने के बाद चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने गागा को कथित तौर पर दुश्मन विदेशी ताकतों की सूची में डाल दिया है। गार्डियन ऑनलाइन की खबर के अनुसार, 2.7 करोड़ से ज्यादा एलबम बेच चुकी 30 वर्षीय गायिका ने इंडियानापोलिस में एक सम्मेलन से पहले तिब्बत के इस आध्यात्मिक नेता से मुलाकात की थी। गायिका के फेसबुक अकाउंट पर 1 मिनट की मुलाकात का वीडियो डाला गया था, जिसमें वे दोनों ध्यान, मानसिक स्वास्थ्य के बारे में और मानवता से जुड़ चुकी बुराइयां दूर करने के बारे में बात कर रहे थे। हांगकांग के लोकतंत्र समर्थक अखबार एप्पल डेली की खबर के अनुसार, गागा की मुलाकात के बाद कम्यूनिस्ट पार्टी के एक विभाग ने लेडी गागा के सभी प्रदर्शनों को चीन में प्रतिबंधित करने का ‘एक महत्वपूर्ण निर्देश’ जारी कर दिया।

चीन को क्यों है दिक्कत?

दलाई लामा इस बात पर जोर देते हैं कि वह तिब्बतवासियों के लिए चीनी शासन से ज्यादा स्वायत्ता हासिल करना चाहते हैं। लेकिन चीनी शासक उन्हें एक अलगाववादी मानते हैं। उनका दावा है कि दलाई लामा हिमालयी क्षेत्र को चीन से अलग करने की साजिश रच रहे हैं ताकि वहां धार्मिक शासन की स्थापना की जा सके। चीन तिब्बतियों के स्प्रिचुअल लीडर दलाई लामा को अक्सर एक पॉलिटिकल हस्ती बताता है। दलाई लामा जिन देशों में जाते हैं, चीन सरकार उन देशों के टॉप लीडर्स पर दबाव बनाने की कोशिश करती है।

 

 

विदेश से सम्बंधित अन्य ख़बरें पढ़ें

 

 

Total votes: 24