SIT अफसर से बोली रूबी - सेकेंड डिवीजन से ही पास करा दीजिए

27 जून

पटना। बिहार इंटरमीडियेट परीक्षा-2016 में आर्ट्स टॉपर रूबी राय एवं बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह के निजी सचिव विकास चंद्र को रविवार को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। निगरानी के विशेष न्यायाधीश राघवेन्द्र सिंह के समक्ष रुबी और विकास को पेश किया गया जहां से दोनों को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में पटना के केन्द्रीय आदर्श कारा बेऊर भेज दिया गया। इसके बाद दोनों को पुलिस की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बेऊर जेल ले जाया गया।

SIT की पूछताछ में रूबी रविवार को भावुक हो गई। उसने जांच कर रही टीम से कहा कि 'सर, कम से कम सेकेंड डिवीजन से पास करवा दीजिए। मुझे फर्स्ट डिवीजन नहीं चाहिए। मैंने एग्जाम दिए थे। सेंटर पर रोज जाती थी। पूछताछ के दौरान टॉपर घोटाले में खुद के साथ ही अपने परिवार का भी बचाव करने की कोशिश की। रूबी ने कहा कि बच्चा राय ने मुझे टॉप करा दिया। उसके पापा बच्चा राय से मिलते थे पर टॉप नहीं कराना चाहते थे। इसके लिए कभी बातचीत नहीं हुई थी।

एग्जाम के समय पापा ने मेरा ध्यान रखने को कहा तो बच्चा राय ने रिजल्ट में टॉप करा दिया। वे मेरे रिश्तेदार नहीं हैं। उल्लेखनीय है कि रुबी विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से गठित मेधा जांच समिति के समक्ष उपस्थित हुई थी और इसके बाद ही उसे विशेष जांच दल (SIT) ने गिरफ्तार कर लिया था। मेधा समिति के समक्ष रुबी फेल कर गई थी जिसके बाद उसके परीक्षा परिणाम को भी रद्द कर दिया गया था।

 

Total votes: 227