बच्चों से जबरन भीख मंगाई जा रही थी

15 जनवरी.

ग्वालियर। शहर में कुछ दिनों से भीख मांगने वाले बच्चों की संख्या बढ़ती जा रही है। इन बच्चों की हकीकत जानने के लिए महिला एवं बाल विकास व चाइल्ड लाइन ने संयुक्त अभियान चलाकर खेड़ापति मंदिर के पास से नौ बच्चों को पकड़ लिया। पकड़े गए बच्चों से जब पूछताछ की तो पता लगा कि इनसे जबरन भीख मंगाई जा रही है।

बच्चों के भीख मांगने में जो बात सामने आई है वो यह है कि परिजन तो कहीं आर्थिक तंगी उन्हें इस काम के लिए विवश करती है। जो नौ बच्चे पकड़े गए उन बच्चों में पांच लड़कियां व चार लड़के हैं। पकड़े गए सभी बच्चों को CWC के सामने पेश किया गया है।

बच्चों के भीख मांगने को लेकर महिला एवं बाल विकास व चाइल्ड लाइन संस्थाओं को लंबे समय से सूचनाएं मिल रही थीं कि शहर के अधिकांश हिस्सों में भीख मांगने वाले बच्चों की संख्या प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। पिनपाइंट सूचना मिलने पर महिला बाल विकास की महिला सशक्तिकरण अधिकारी शालिन शर्मा, संरक्षण अधिकारी सतीश जैन, चाइल्ड लाइन के सदस्य राजेन्द्र सोनी, बृजेश कुशवाह व उनकी टीम ने विकास नगर में स्थित सांई बाबा मंदिर और खेड़ापति कॉलोनी के पास स्थित हनुमान मंदिर के क्षेत्र में दबिश दी।

दबिश के दौरान 6 से 15 वर्ष की आयु के 9 बच्चे पकड़े हैं। जिनमें चार लडके व पांच लडकिया थे। पकडे गए बच्चों को बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) के सामने पेश किया गया। जिनमें से दो लडको और चार लड़कियों को काउंसलिंग के बाद आश्रम में भेज दिया गया। वहीं एक लड़की व दो लड़कों को उनके परिजन के सुपुर्द कर दिया गया है। पकडे गए बच्चों से पूछताछ में सामने आया कि वह तो पढ़ना लिखना चाहते हैं पर आर्थिक तंगी के चलते उनसे मजबूरी वश भीख मंगाई जाती है।

Total votes: 48