संख्या बढ़ाने के लिए नक्सलियों ने स्कूली बच्चों के हाथों में थमाई बंदूक

3 जून

बालाघाट। मप्र और छत्तीसगढ़ की सीमा से लगे बालाघाट जिले में एक बार फिर नक्सली बड़ी चुनौती लेकर सामने आए हैं। नक्सलियों ने अब अपने दल में स्कूल बच्चों को भी शामिल करना शुरू कर दिया है, जो आने वाले दिनों में पुलिस के लिए बड़ी मुश्किल बन सकते हैं।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, पाथरी पुलिस चौकी के बीजाखोह में कुछ दिनों पहले हुई मुठभेड़ में पकड़ में आए तीन नक्सलियों के पास से एक महत्वपूर्ण डायरी प्राप्त हुई है। इस डायरी के आधार पर ये सामने आया है कि बड़ी संख्या में स्कूली बच्चे नक्सलियों के दल में शामिल हो रहे हैं।

इन बच्चों के कंधों पर ना केवल बंदूक का भार दे दिया गया है बल्कि पुलिस से कैसे सामना करना है, इसके लिए भी उन्हें ट्रेनिंग दी जा रही है। इन नक्सलियों की उम्र 15 से 22 वर्ष बताई जा रही है, जिनकी संख्या करीब डेढ़ दर्जन है। ये सभी छत्तीसगढ़ के बस्तर के अंतर्गत नक्सल प्रभावित क्षेत्र के गांवों के रहने वाले हैं। गिरफ्तार किए गए नक्सलियों से पुलिस को डायरी के साथ ही फोटो भी बरामद हुए हैं, जिनमें छात्र नक्सली ट्रेनिंग लेते नजर आ रहे हैं।

पुलिस अब इस मामले में इस बात की तस्दीक कर रही है कि ये छात्र खुद नक्सलियों के दल में शामिल हुए हैं, या फिर नक्सलियों ने उन्हें डरा-धमका कर या अपहरण कर दल में जबरदस्ती शामिल किया है।

इस मामले को लेकर बालाघाट पुलिस बस्तर के अधिकारियों के संपर्क में भी है। जिन्होंने संयुक्त टीम का दल बनाते हुए जंगलों में सर्च अभियान बढ़ा दिया है। जिसकी कमान खुद एसपी संभाल रहे हैं। गौरतलब है कि बालाघाट में पिछले तीन दशक से नक्सलियों का पनागाह बना हुआ है, जिसके चलते नक्सलियों ने कई बड़ी वारदातों को अंजाम दिया है। जिसमें हत्या, लूट और आगजनी जैसी घटनाएं शामिल हैं।

 

 

Total votes: 25